Dard Shayari

Dard shayari is a form of poetry expressing painful feelings of heart. We have collected best ever dard bhari shayari in hindi and english script. It is all about extreme pain of feelings raised in heart due to incomplete love or some bad incidents in life.

Dard Shayari

If you are looking for latest Hindi Dard Shayari, New Dard Status, Best Painful Shayari, Dard Shayari Wallpaper, Poignant Dard SMS or Heart touching Dard Status for facebook or whatsapp then read our entire collection and feel the depth of words with heart.

हमारी किसी बात से खफा मत होना,
नादानी से हमारी नाराज़ मत होना,
पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना,
चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना.

गुलाब की खुशबू भी फीकी लगती है,
कौन सी खूशबू मुझमें बसा गई हो तुम,
जिंदगी है क्या तेरी चाहत के सिवा,
ये कैसा ख्वाब आंखों में दिखा गई हो तुम.

आग सूरज मैँ होती हैँ जलना जमीन को पडता हैँ,
मोहब्बत निगाहेँ करती हैँ तडपना दिल को पडता हैँ.

तू चाँद और मैं सितारा होता,
आसमान में एक आशियाना हमारा होता,
लोग तुम्हे दूर से देखते,
नज़दीक़ से देखने का हक़ बस हमारा होता.

तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है,
जिसका रास्ता बहुत खराब है,
मेरे ज़ख़्म का अंदाज़ा ना लगा,
दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है.

“आँखों से दूर दिल के करीब था,
में उस का वो मेरा नसीब था.
न कभी मिला न जुदा हुआ,
रिश्ता हम दोनों का कितना अजीब था.”

“शाम के बाद मिलती है रात,
हर बात में समाई हुई है तेरी याद.
बहुत तनहा होती ये जिंदगी,
अगर नहीं मिलता जो आपका साथ.”

“नही है हमारा हाल,
कुछ तुम्हारे हाल से अलग,
बस फ़र्क है इतना,
कि तुम याद करते हो,
और हम भूल नही पाते.”

“तरस गये आपके दीदार को,
दिल फिर भी आपका इंतज़ार करता है,
हमसे अच्छा तो आपके घर का आईना है,
जो हर रोज़ आपका दीदार करता है.”

आँखों में सपने हैं,
क़दमों में इरादा है;
खुद को मंजिल तक पहुंचाने का
मेरा मुझसे वादा है

अनछुए ख़्वाबों को आज
अपनी पनाहों में ले लूँ;
कहीं उन्हें छू भी न पाऊं
और ज़िंदगी की शाम ढल जाए

कुछ इस तरह
सौदा किया ज़िंदगी से हमने;
जितना बढ़ा दर्द,
उतना ही जोश दुगुना होता रहा

आशाओं में रवानी है,
आगे बढ़ने की ठानी है!
कौन सोचे जो बीत गया,
वो तो एक गुजरी कहानी है

काश मुझे भी कोई प्यार करे काश
मुझे पर भी कोई ऐतबार करे
निकलता हू यूही चाहत की तलाश मे
काश प्यार की राहो मे मेरा भी कोई इंतेज़ार करे

दोस्ती उन से करो जो निभाना जानते हो,
नफ़रत उन से करो जो भूलना जानते हो,
ग़ुस्सा उन से करो जो मानना जानता हो,
प्यार उनसे करो जो दिल लुटाना जानता हो.

उन्हें चाहना हमारी कमजोरी है,
उनसे कह नही पाना हमारी मजबूरी है,
वो क्यूँ नही समझते हमारी खामोशी को,
क्या प्यार का इज़हार करना जरूरी है.

ऐ मन, ज़रा सा झूम ले तू,
ज़रा गुनगुना, ज़रा घूम ले तू;
मंजिल है दूर, चलना ही है तुझे,
उड़कर हवाओं को चूम ले तू

नदिया के दिल की जुबां,
न किसी ने सुनी, न जानी;
झरने से शुरू कर,
सागर में कर दी खत्म कहानी

कब तक
उदासी और नाउम्मीदगी रुलाएगी?
राहों पर निकल पड़े हैं
तो मंजिल भी मिल जायेगी

“मोहब्बत मुकदर है एक ख्वाब नही,
ये वोह अदा है कि सब जिसमे कामयाब नही.
जिन्हें पनाह मिली उंगलियो पर गिनलो उन्हें,
मगर जिनके कतल हुए उनका कोई हिसाब नहीं.”

“एक सिलसिले की उमीद थी जिनसे,
वही फ़ासले बनाते गये,
हम तो पास आने की कोशिश मे थे,
जाने क्यूँ वो दूरियाँ बढ़ाते गये.”

“दर्द ज़ाहिर कभी करने नहीं देता मुझको
अश्क आंखों में भी भरने नहीं देता मुझको
जानता हूँ, कि मैं अब टूट चुका हूँ लेकिन
वो तो इक शख्स बिखरने नहीं देता मुझको

“कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको,
चलो ऐसा करो भूला दो मुझको,
तुमसे बिछडु तो मौत आ जाये,
दिल की गहराई से ऐसी दुआ दो मुझको”

“रोने से किसी को पाया नहीं जाता,
खोने से किसी को भुलाया नहीं जाता,
वक्त सबको मिलता है जिन्दगी बदलने के लिए,
पर जिन्दगी नहीं मिलती वक्त बदलने के लिए”

“दुआ करते है हम खुदा से,
ऎ खुदा हमारा प्यारा अपनी मंज़िल पाऐ,
उसकी राहो मे अँधेरा आए ..
तो रोशनी के लिये हमॆ जलाऎ ”

“उनकी नजरों में छुपा आज भी एक राज़ था,
वही चेहरा वही लिबास था,
कैसे यारों उनको बेवफा कहदु,
आज भी उनके दॆखनॆ का वही अंदाज था.”

“बादल कितने खुशनसीब हैं,
दूर रहकर भी जमीन पर बरसतॆ है,
हम कितने बदनसीब है,
पास रहकर भी मिलने को तरसतॆ है ..”

हमारी गलतियों से कही टूट न जाना,
हमारी शरारत से कही रूठ न जाना,
तुम्हारी चाहत ही हमारी जिंदगी हैं,
इस प्यारे से बंधन को भूल न जाना.

ऐसी वाणी बोलिये कि सब से झगडा होए;
ऐसी वाणी बोलिये कि सब से झगडा होए;
पर उस से झगडा ना करें जो आप से तगड़ा होए!

पी लेंगे तुम्हारा हर एक आंसू;
कभी अपनी महफ़िल में बैठाकर तो देखो;
भाभी कहोगे तुम अपनी गर्लफ्रेंड को;
कभी हमसे मिलाकर तो देखो!

क्या सुनाएँ हम आपको दास्ताँ-ए-गम;
अर्ज किया है;
क्या सुनाएँ हम आपको दास्ताँ-ए-गम;
जब से आप मिले हो परेशान हो गए हैं हम!

प्यार का गीत गायेंगे हम;
तुझसे मोहब्बत निभायेंगे हम;
जो तूने कबूल कर लिया प्यार मेरा तो ठीक;
वरना किसी और हसीना को पटायेंगे हम!

बारिश का मौसम बहुत तडपता है;
उनकी याद हैं जिन्हें दिल चाहता है;
लेकिन वो आए भी तो कैसे;
ना उनके पास रैन कोट है और ना छाता है।

उम्र की राह में जज्बात बदल जाते है;
वक़्त की आंधी में हालात बदल जाते है;
सोचता हूँ कि काम कर-कर के रिकॉर्ड तोड़ दूँ;
पर ऑफिस आते आते ख़यालात बदल जाते है।

याद रखना मेरी दोस्ती को तुम,
तेरी ज़िंदगी पर एक एहसान कर दिया,
इस मोबाइल मे एक आखरी रूपिया था,
मैने वो भी तेरे नाम कर दिया.

तेरे प्यार की रौशनी ऐसी है की हर तरफ उजाला नज़र आता है,
सोचती हूँ घर के बिजली कटवा दू कमबख्त बिल बहोत आता है.

ना इश्क़ कर मेरे यार यह लड़किया बहुत सताती है,
ना करना इन पर ऐतबार यह खर्चा बहुत करवाती है,
रीचार्ज तुम करवा के देते हो और नंबर मेरा लगाती है.

तेरी दुनिया में कोई गम ना हो;
तेरी खुशियाँ कभी कम न हो;
भगवान तुझे ऐसी आइटम दे;
जो अग्निपथ की चिकनी चमेली से कम ना हो.

अय दोस्त मत कर इन हसीनाओं से मोहब्बत;
वह आँखों और बातों से वार करती हैं;
मैंने तेरी वाली की आँखों में देखा है;
वो मुझसे भी प्यार करती है.

“दूर से देखा तो संतरा था, पास गया तो भी संतरा था,
छिल के देखा तो भी संतरा था,
खा के देखा तो भी संतरा था।
वाह, क्या संतरा था।”

“पूरी बोतल ना सही कम से कम एक जाम तो हो
जिनकी याद में हम बीमार पड़े हैं
कम से कम उन्हें जुकाम तो हो.”

“तुमसे मिलकर हो गया जिंदगी से प्यार,
अब हमें छोड़कर मत जाना मेरे यार,
बिन तेरे हम जी ना पाएँगे तुम ना होंगे तो
हम उल्लू किसे बनाएँगे.”

हो के मायूस न यूं शाम से ढलते रहिये,
ज़िन्दगी भोर है सूरज सा निकलते रहिये,
एक ही पाँव पे ठहरोगे तो थक जाओगे,
धीरे-धीरे ही सही राह पे चलते रहिये.

खुशबू बनकर गुलों से उड़ा करते हैं,
धुआं बनकर पर्वतों से उड़ा करते हैं,
ये कैंचियाँ खाक हमें उड़ने से रोकेगी,
हम परों से नहीं हौसलों से उड़ा करते हैं.

“समने हो मंज़िल तो रास्ते ना मोडना,
जो भी मन मे हो वो सपना ना तोडना,
कदम कदम पे मिलेगी मुशकिल आपको,
बस सितारे चुन-ने के लिये कभी ज़मीन मत छोडना.”

“ज़िन्दगी मे कई मुशकिले आती है,
और इन्सान ज़िन्दा रहने से घबराता है,
ना जाने कैसे हज़ारो कांटो के बीच,
रह कर भी एक फूल मुस्कुराता है.”

“आओ झुक कर सलाम करे उन्हे,
जिनकी ज़िन्दगी मे ये मुकाम आया है.
किस कदर खुशनसीब है वो लोग,
जिनका लहू देश के काम आया है.”

“सोच को बदलो, सितारे बदल जायेंगे
नजर को बदलो, नज़ारे बदल जायेगे,
कश्तियाँ बदलने की जरुरत नही,
दिशाओ को बदलो, किनारे बदल जायेंगे.”

“बांटनी है अगर बांट लो हर खुशी,
गम न जाहिर करो तुम किसी पर कभी,
दिल की गहरायी में गम छुपाते रहो,
जिंदगी में सदा मुस्कुराते रहो.”

आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफिर ने समंदर नहीं देखा
पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला
मैं मोम हूँ उसने मुझे छू कर नहीं देखा

हंसने के बाद क्यों रुलाती है दुनियां,
जाने के बाद क्यों भुला देती है ये दुनियां,
जिंदगी में क्या कोई कसर बाकी थी,
जो मरने के बाद भी जला देती है ये दुनियां.

ये जान गँवा दी, ये जुबां गँवा दी,
हमने तेरे इश्क में दो जहान गँवा दी,
सीने में पड़े थे दिल के हजार टुकड़े,
एक नज़र से तूने उनमें आग लगा दी.

“उसकी पलकों से आँसू को चुरा रहे थे हम,
उसके ग़मोको हंसींसे सजा रहे थे हम,
जलाया उसी दिए ने मेरा हाथ जिसकी
लो को हवासे बचा रहे थे हम”

“क्यों कोई चाह कर महोब्बत निभा नहींपाता,
क्यों कोई चाह कर रिश्ता बना नहीं पाता,
क्यों लेती है जिंदगी ऐसी करवट,
कि कोई चाह कर भी प्यार जता नहीं पाता।”

“उसकी बातों को बार बार याद करके रोये,
उसके लिये दर पे फरियाद करके रोये,
उसकी खुशी के लिये उसको छोड दिया
फिर उसे किसी ओर के साथ आबाद करके रोये.”